Declaration of the Online Seed Diversity Festival, Oct.24-25, 2020

4:34 pm in News by Kavitha

ONLINE SEED DIVERSITY FESTIVAL 2020

24-25 October 2020

Declaration

Seed is the first and critical link in the food chain. It is a sacred code of evolution, an embodiment of life and memory, a latent world waiting to unfold, a symbol of humankind’s collective endeavour and innovation. The seed gives itself to earth – soil, air and moisture – and comes alive. Drawing energy from the sun and through symbiotic relationships with other forms of life, it grows and multiplies manifold. Like the earth and the sky, the immense biodiversity of seeds is our collective heritage. Gifted by nature and the cumulative innovations, adaptations and selections of many generations of farming communities, these seeds belong to all. They are our most vital wealth, essential for survival. However, Seeds have been made into vehicles for unsustainable practices that aid corporate profit to invade our farming and food systems.

Seeds cannot and should not be seen as mere commodities, to be bought and sold at will, and as private property of some corporations to profiteer from. Allowing any variety of seed or plant to become a proprietary resource is a violation of natural justice, and a great suicidal blunder of modern economic civilization.

Today, the danger to our priceless collective heritage of agro-biodiversity from proprietary commercial hybrid seeds and GM (genetically modified) crops is graver than ever. Gene technologies in our food and farming systems threaten severe contamination of our local crop varieties and erosion of diversity. The aggressive marketing of hybrids and GM crops also drives local varieties out of circulation, as witnessed by the near total erosion of traditional cotton varieties in India. The legal regimes built around seed resources in the form of intellectual property is threatening farmers’ rights in numerous ways. Various free trade agreements are exterminating farmers’ rights over seed resources. Even within so-called progressive legislative frameworks like the Protection of Plant Varieties & Farmers’ Rights Act 2001 in India, we have seen farmers being intimidated and sued in the name of infringement by MNCs as witnessed in the infamous PepsiCo episode in Gujarat.

The seed diversity heritage that we collectively inherited needs to be conserved, nurtured and revived since herein lie solutions for problems related to nutrition insecurity, climate change, environmental resources degradation as well as acute agrarian/farm crisis. Within this is the explicit recognition that the worldviews, ethos, knowledge and skills of Adivasi and women farmers constitute the guidance required for the wise way forward for humankind itself.

We, a community of seed savers and their supporters from India, from different parts of the country, working in different agro-climatic zones with different cropping systems, pledge to protect our agro-diversity heritage and … 

…and hereby adopt the following seed declaration:

1)      We assert the farming communities’ sovereign rights over their collective bio-cultural heritage, including the right to freely plant, use, reproduce, select, improve, adapt, save, share, exchange or sell seeds, without restriction or hindrance, as has been done for millennia.

2)      We reject the validity of any private or corporate proprietary claim of ownership over any variety of seed, crop, plant or life form, and particularly any variety rooted in our natural and community heritage, cultural history and identity.

3)      We demand a ban on gene technologies in modern breeding in our food and farming systems, and strict enforcement of corporate liability for any contamination of seeds/plants, and any damage to the health of farmers, consumers, animals, croplands and eco-systems from the use/environmental release of GM and gene-edited seeds and species.

4)      We urge our governments to partner with our farmers, gardeners and civil society organizations in collaboration with academic institutions and Biodiversity Boards to systematically and transparently record and document in a freely accessible database for our communities, relevant information on our genetic wealth, particularly the diversity of our crops and crop varieties, originating in or found in various regions and cultures of India.

5)      We demand that our government facilitate and simplify farmers’ and cultivators’ access to our heritage seed varieties from national and international germplasm collections, and support their decentralized on-farm conservation and revival.

6)      We assert our unconditional right to pass on our collective bio-cultural heritage and the health of our croplands and eco-systems to future generations without any downstream proprietary rights established by anyone either, in an open source system.

7)      We demand that our government fulfill its responsibility of safeguarding and regenerating our collective bio-cultural heritage and the health of our croplands and eco-systems. For this, we call upon our government to pro-actively promote and support bio-diverse and holistic ecological agriculture to meet our basic, priority needs in a sustainable manner.

8)    We call upon Governments to promote direct markets, especially Markets run by women leadership so that Indigenous and local produce gets larger attention and consumer access to nutritious, diverse, safe foods.

9)  We urge Governments to plan programs to support communities and their organizations to create community seed banks especially led by women.

10) We demand Governments not to sign on free trade agreements where the residual rights given to farmers over seeds are further diluted, and that there should be no further weakening of farmers’ rights provisions which have unnaturally already been included within an IPR framework in the PPV&FR Act.

 

======================================================

ऑनलाइन बीज विवद्धता मेला 2020

२४-२५  अक्टूबर २०२०

घोषणा

खाद्य श्रृंखला में बीज पहली और महत्वपूर्ण कड़ी है। यह विकास का एक पवित्र कोड है, जीवन और स्मृति का एक अवतार, एक अव्यक्त दुनिया, जो मानव जाति के सामूहिक प्रयास और नवाचार का प्रतीक है। बीज पृथ्वी को स्वयं देता है – मिट्टी, हवा और नमी – और जीवित आता है। सूर्य से ऊर्जा खींचना और जीवन के अन्य रूपों के साथ सहजीवी संबंधों के माध्यम से, यह बढ़ता है और कई गुना बढ़ जाता है। पृथ्वी और आकाश की तरह, बीजों की विशाल जैव विविधता हमारी सामूहिक विरासत है। प्रकृति द्वारा उपहार और संचयी नवाचारों, अनुकूलन और किसान समुदायों की कई पीढ़ियों के चयन से, ये बीज सभी के हैं। वे हमारे सबसे महत्वपूर्ण धन हैं, जो अस्तित्व के लिए आवश्यक हैं। हालाँकि, बीजों को ऐसे वाहनों में परिवर्तित कर दिया गया है, जो हमारे कृषि और खाद्य प्रणालियों पर आक्रमण करने के लिए कॉर्पोरेट लाभ में सहायता करते हैं।

 

बीज को केवल वस्तुओं के रूप में नहीं देखा जा सकता है, की इन्हे बस इच्छानुसार खरीदा और बेचा जाए, और कुछ निगम इन्हे अपनी सिर्फ मुनाफे के लिए अपनी निजी संपत्ति समझते रहें। किसी भी प्रकार के बीज या पौधे को मालिकाना संसाधन बनने की अनुमति देना,  प्राकृतिक न्याय का उल्लंघन है, और आधुनिक आर्थिक सभ्यता का एक बड़ा आत्मघाती विस्फोट है।

.

आज, मालिकाना वाणिज्यिक संकर बीज (कमर्शियल हाइब्रिड सीड्स)  और जीएम (आनुवंशिक रूप से संशोधित) फसलों से कृषि-जैव विविधता की हमारी अमूल्य सामूहिक विरासत के लिए खतरा पहले से कहीं अधिक गंभीर है। हमारे खाद्य और कृषि प्रणालियों में जीन प्रौद्योगिकियां,  हमारे स्थानीय फसल की किस्मों को संक्रमित और विविधता को खत्म करने की गंभीर चुनौती देती है । संकर (हाइब्रिड) और जीएम फसलों की आक्रामक मार्केटिंग ने  स्थानीय किस्मों को चलन से बाहर कर देती हैं। भारत में पारंपरिक कपास की किस्मों का लगभग खत्म हो जाना इस बात का गवाह है। बौद्धिक संपदा के रूप में बीज संसाधनों के आसपास निर्मित कानूनी व्यवस्था कई तरीकों से किसानों के अधिकारों को खतरे में डाल रही है। विभिन्न मुक्त व्यापार समझौते, बीज संसाधनों पर किसानों के अधिकारों को नष्ट कर रहे हैं। यहां तक ​​कि पौधों की किस्मों के संरक्षण के लिए बनाये गए – प्रोटेक्शन ऑफ़ प्लांट वेरायटीज एंड फार्मर्स राइट्स एक्ट २००१, जैसे तथाकथित प्रगतिशील विधायी ढांचे के भीतर भी, किसानो को  बड़े उद्योगों द्वारा उलंघन के नाम पर धमकाना और कानूनी प्रकिर्या चलाना, हमने पेप्सी कंपनी को गुजरात में देखा है।

 

बीज विविधता धरोहर जो हमें सामूहिक रूप से विरासत में मिली है, उसे पोषण, असुरक्षा, जलवायु परिवर्तन, पर्यावरणीय संसाधनों के क्षरण के साथ-साथ तीव्र कृषि / कृषि संकट से संबंधित समस्याओं के समाधान के लिए संरक्षित, पोषित और पुनर्जीवित करने की आवश्यकता है। इसके भीतर यह स्पष्ट मान्यता है कि आदिवासी और महिला किसानों के विश्वदर्शन, लोकाचार, ज्ञान और कौशल, मानव जाति के लिए आगे के बुद्धिमान मार्ग के लिए आवश्यक मार्गदर्शन का निर्माण करते हैं।

हम, देश के विभिन्न हिस्सों से, भारत के बीज सेवकों और उनके समर्थकों का एक समुदाय, विभिन्न फसल प्रणालियों के साथ विभिन्न कृषि-जलवायु क्षेत्रों में काम कर रहे हैं, हमारी कृषि-विविधता विरासत की रक्षा करने की प्रतिज्ञा करते हैं और

और इसके बाद निम्नलिखित बीज घोषणा को अपनाएँ:

1)    हम किसान समुदायों के सामूहिक जैव-सांस्कृतिक विरासत के अधिकारों पर जोर देते हैं, जिसमें स्वतंत्र रूप से पौधों को उगाना, उपयोग, प्रजनन, चयन, सुधार, अनुकूलन, बचत, साझा, विनिमय या बीजों  बेचने का अधिकार शामिल है, बिना प्रतिबंध या बाधा के, सहस्राब्दी के लिए किया गया है।

 

2)     हम किसी भी प्रकार के बीज, फसल, पौधे या जीवन के रूप को  और विशेष रूप से हमारे प्राकृतिक और सामुदायिक विरासत, सांस्कृतिक इतिहास और पहचान में निहित किसी भी किस्म पर स्वामित्व के किसी भी निजी या कॉर्पोरेट स्वामित्व के दावे की वैधता को अस्वीकार करते हैं।

 

3)    हम अपने भोजन और खेती प्रणालियों में आधुनिक प्रजनन में जीन प्रौद्योगिकियों पर प्रतिबंध लगाने की मांग करते हैं| बीज / पौधों के किसी भी संदूषण और जीएम, और जीन-संपादित बीज और प्रजातियों के उपयोग / पर्यावरण रिलीज से किसानों, उपभोक्ताओं, जानवरों, फसल और पर्यावरण-प्रणालियों के स्वास्थ्य को कोई नुकसान के लिए के कॉर्पोरेट दायित्व के सख्त प्रवर्तन, की मांग करते हैं।

 

4)    हम अपनी सरकारों से आग्रह करते हैं कि वे अपने किसानों, बागवानों और नागरिक समाज के संगठनों के साथ अकादमिक संस्थानों और जैव विविधता बोर्डों के सहयोग से व्यवस्थित और पारदर्शी रूप से रिकॉर्ड करे। यह हमारे समुदायों के लिए एक स्वतंत्र रूप से सुलभ डेटाबेस में दस्तावेज करे। यह दस्तावेज़ हमारे आनुवंशिक धन, विशेष रूप से विविधता पर प्रासंगिक जानकारी,  भारत के विभिन्न क्षेत्रों और संस्कृतियों में उत्पन्न या पाई जाने वाली हमारी फसलें और फसल की किस्में, के बारे में रिकॉर्ड करें।

 

5)    हम मांग करते हैं कि हमारी सरकार राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय जर्मप्लाज्म संग्रह से किसानों और किसानों की हमारी विरासत की बीज किस्मों तक पहुंच को आसान और सरल बनाए और उनके विकेंद्रीकृत कृषि संरक्षण और पुनरुद्धार का समर्थन करे।

 

6)    हम अपनी सामूहिक जैव-सांस्कृतिक विरासत और अपने क्रॉपलैंड्स और इको-सिस्टम के स्वास्थ्य के लिए भावी पीढ़ियों के लिए किसी भी डाउनस्ट्रीम मालिकाना अधिकारों के बिना किसी भी खुले स्रोत प्रणाली में किसी भी द्वारा स्थापित किए जाने के अधिकार पर जोर देते हैं।

 

7)    हम मांग करते हैं कि हमारी सरकार हमारी सामूहिक जैव-सांस्कृतिक विरासत को सुरक्षित रखने और पुनर्जीवित करने और अपने क्रॉपलैंड्स और इको-सिस्टम के स्वास्थ्य के प्रति अपनी जिम्मेदारी को पूरा करे। इसके लिए, हम अपनी सरकार से सतत रूप से जैव-विविध और समग्र पारिस्थितिक कृषि को बढ़ावा देने और समर्थन करने का आह्वान करते हैं, ताकि हमारी स्थायी जरूरतों को पूरा किया जा सके।

 

8)    हम सरकारों से प्रत्यक्ष बाजारों को बढ़ावा देने के लिए आह्वान करते हैं, विशेष रूप से बाजार महिला नेतृत्व द्वारा चलाए जाते हैं ताकि स्वदेशी और स्थानीय उपज को पौष्टिक, विविध, सुरक्षित खाद्य पदार्थों पर अधिक ध्यान और उपभोक्ता पहुंच प्राप्त हो सके।

 

9)    . हम सरकारों से समुदायों और उनके संगठनों को समर्थन देने के लिए कार्यक्रमों की योजना बनाने का आग्रह करते हैं जो विशेष रूप से महिलाओं के नेतृत्व में सामुदायिक बीज बैंक बनाते हैं।

 

10)  हम सरकारों से मांग करते हैं कि वे मुक्त व्यापार समझौतों पर हस्ताक्षर न करें जहां किसानों को बीजों पर दिए गए अवशिष्ट अधिकारों को और अधिक पतला कर दिया गया है, और किसानों के अधिकारों के प्रावधानों को और कमजोर नहीं किया जाना चाहिए, जो पहले से ही एक आईपीआर ढांचे के भीतर अस्वाभाविक रूप से पीपीवी और एफआर अधिनियम में शामिल हैं। ।